TOP

अगला दौर श्रम कानूनों में सुधार का

  • नई दिल्ली। देश में अब श्रम कानूनों के सुधार का सिलसिला शुरू हो गया है। दरअसल सरकार अलग-अलग श्रम कानूनों के स्थान पर एक ही कानून बनाने की कवायद कर रही है। इस कानून का नाम लेबर कोड ऑन इंडस्ट्रियल रिलेशन बिल-2015 रखा गया है। इसमें औद्योगिक विवाद अधिनियम 1947, द ट्रेड यूनियन एक्ट 1926 और औद्योगिक नियोजन स्टेण्डिंग ऑर्डर अधिनियम 1946 को शामिल ...
    और पढ़ें...


Load More...
विचार सागर
  • .

     ''होठ हिलाने और कान लगाने जैसे दो काम एक साथ नहीं करने चाहिए।''

    - के.आर. कमलेश
     
    ''सुखी रहने का सर्वोत्तम उपाय है, सदा प्रसन्न रहना।'' 
    - शशि सुरेश राठी
  • .

     ''खुद ही जज, खुद ही वकील और खुद ही आरोपी! बोलिए, फिर कैसा जजमेंट (न्याय) आएगा?!''

    - दादा भगवान
    ''वे ही लोग पाते इज्जत ज्यादा जो करते दुनिया में मेहनत ज्यादा।'' 
    - शशि सुरेश राठी
  • .

     ''होठ हिलाने और कान लगाने जैसे दो काम एक साथ नहीं करने चाहिए।''

    - के.आर. कमलेश
     
    ''कलह समाप्त करने की एक की कारगर दवा है- चुप्पी।'' 
    - शशि सुरेश राठी
  • .

     ''दान देना उधार देने के समान है। देना सीखो क्योंकि जो देता है वह देवता है और जो रखता है वह राक्षस। ज्ञानी तो इशारे से ही देने को तैयार हो जाता है, मगर नीच लोग गन्ने की तरह कुटने-पिटने के बाद ही देने को राजी होते हैं। जब तुम्हारे मन में देने का भाव जागे तो समझना पुण्य का उदय आया है। अपने होश-हवास में कुछ दान दे डालो क्योंकि जो दे दिया जाता है, वह सोना हो जाता है और जो बचा लिया जाता है वह मिट्टी हो जाता है। भिखारी भी भीख में मिली हुई रोटी तभी खाये जब उसका एक टुकड़ा कीड़े-मकोड़े को डाल दे। अगर वह ऐसा नहीं करता तो कई जन्मों तक भिखारी ही रहेगा।''

     
    - मुनिश्री तरुण सागर
  • .

     ''(विषय) विषय ही हैं। विषय में अज्ञानता हो तो कषाय 

    खड़े होते हैं और ज्ञान हो तो कषाय नहीं होते।''
     
    - दादा भगवान
     
    ''व्यक्ति, वस्तु, परिस्थिति जैसी है, वैसी ही स्वीकार करें।'' 
    - श्री चन्द्रप्रभ सागर
Thoughts of the time
  • Character is a diamond that acratches every other stone.

    -  Cyrus R. Bartol
  • Necessity is the mother of taking chances.
    - Mark Twain
  •  Great innovations should not be forced on slender majorities.

    - Thomas Jefferson
     
    Character is destiny.
    - Heraclitus
  •  But innovation is more than a new method. It is a new view of the universe, as one of risk rather than of chance or of certainty. It is a new view of man’s role in the universe; he creates order by taking risks. And this means that innovation, rather than being an assertion of human power, is an acceptance of human responsibility 

     
    - Peter  Drucker 
  • Though I speak with the tongues of men and of angels, and have not charity. I am as sounding brass, or a tinkling cymbal.

    - I Corinthians 13:1
     
    People that trust wholly to others’ charity, and without industry of their own, will always be poor.
    - William J. Temple
राजस्थानी कहावत
अरजन जिसा फरजंद
अर्जुन जैसा ही फरजंद
  • #जैसा पिता, वैसा ही पुत्र।
  • #बलवान पिता का बलवान पुत्र।
  • #कोई बेटा बाप से बढ़कर हो तो उसकी सराहना में इस कहावत का प्रयोग होता है।
-स्व. विजय दान देथा साभार : रूपायन संस्थान, बोरूं
  • इस वर्ष आज तक की तेल खपत
    बेरल में
    28,372,112,584
  • आज की तेल खपत
    बेरल में
    60,221,589
  • U.S. Debt Clock

    Total Debt
    $ 17,512,327,857,707

    Per Capita Debt
    $ 55,046.28
  • India Debt Clock

    Total Debt
    Rs. 56,906,352,988,497

    Per Capita Debt
    Rs. 45,855
  • भारत की ताजा जनसंख्या
    1,257,854,079

    दुनिया की ताजा जनसंख्या
    7,230,429,888
राष्ट्रीय शेयर बाजार सूचकांक
अंतरराष्ट्रीय बाज़ार सूचकांक
X
Login
X

Login

X

Forgot Password ?