TOP

ई - पेपर Subscribe Now!

ePaper
Subscribe Now!

Nafa Nuksan

Daily Business Newspaper

  • बिग बोनान्ज़ा...मारुति बलेनो...
    बलेनो नाम से 3बॉक्स पर दांव लगा हाथ जलाने के बाद जब मारुति ने नेमसेक (एक जैसे नाम वाला) सुपरहैच मॉडल लॉन्च किया तो अंदाजा नहीं...
  • टॉप-10 में स्प्लैंडर को पीछे छोड़...
    फेस्टिव महिने अक्टूबर में होन्डा एक्टिवा बेस्ट सेलर दुपहिया बनकर उभरा है और इसकी 2.81 लाख यूनिट्स की बिक्री हुई। इस तरह एक्टिवा...
  • महिन्द्रा ने टाली इलेक्ट्रिक...
    महिन्द्रा एंड महिन्द्रा इलेक्ट्रिक रेंज की लॉन्च को टाल रही है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कम्पनी ने इंडस्ट्री में डिमांड...
  • एस्पार्क आउल...
    यदि बात रफ्तार की करें तो आउल यानी उल्लू कहीं नहीं टिकता लेकिन दुबई मोटर शो में जो दुनिया की फास्टेस्ट एक्सीलरेटिंग या कहें तो...
  • अब इम्पोर्टेड कारों पर टैरिफ नहीं...
    पिछले सप्ताह रिपोर्ट आई थी कि राष्ट्रपति डॉनाल्ड ट्रम्प जल्दी ही इम्पोर्टेड कारों और कम्पोनेंट्स पर टैरिफ बढ़ाने का फैसला कर...
  • साझा सेवा केन्द्रों में किसानों...
    पीएम-किसान योजना के तहत पात्र किसान अब योजना का लाभ पाने के लिये साझा सेवा केंद्रों पर पंजीकरण करा सकते हैं। योजना के लिये इन...
  • 66 अरब डॉलर की अटकी आवासीय...
    रीयल एस्टेट क्षेत्र में वित्तीय संकट तथा सुस्ती के कारण करीब 6 6 अरब डॉलर की आवासीय परियोजनाएं दिवालाशोधन प्रक्रिया से गुजर रही...
  • बैंक कर्ज में 8.07 प्रतिशत, जमा...
    बैंकों का कुल ऋण वितरण आठ नवंबर को समाप्त पखवाड़े में 8.07 प्रतिशत बढ़कर 98.47 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया। रिजर्व बैंक के...
  • दिल्ली की अवैध कॉलोनियों के...
    केंद्रीय मंत्रिमंडल ने दिल्ली में अवैध कॉलोनियों में रह रहे लोगों को मालिकाना हक देने के लिए कानूनी रूपरेखा मुहैया कराने वाले...
  • मुंबई नगर निगम क्षेत्र में...
    मुंबई नगर निगम क्षेत्र में 880 आवासीय परियोजनाएं विभिन्न कारणों से पांच साल से अधिक की देरी में चल रही हैं और ये 2020 के बाद ही...
विचार सागर
  •  ''मानव का सम्मान साहित्य से ही संभव होता है। साहित्य, जिसमें मानव हित छिपा होता है।''

    - के.आर. कमलेश
    ''जहां दूसरों को समझना मुश्किल हो जाए, वहां खुद को समझा लेना बेहतर होता है।''
    - पी.सी. वर्मा
Thoughts of the time
  • Some mothers need happy children; other need unhappy ones--otherwise they cannot prove their maternal virtues.

    - Friedrich Wilhelm Nietzsche
राजस्थानी कहावत
काचे घडूल्ये पाणी नी ठेरे
कच्चे घड़े में पानी नहीं ठहरता
  • ओछे आदमी के मन में बात नहीं पचती।अपना आदमी सही बात न माने तब।
विजय दान देथा

Indian Stock Market

International Stock Market

प्रीमियम

CONNECT WITH US

X
Login
X

Login

X

Click here to make payment and subscribe
X

Please subscribe to view this section.